Mamata Banerjee पर 24 घंटे तक बैन, रात 8 बजे तक रैलियों और भाषणों पर रोक

0
28
Mamata Banerjee पर 24 घंटे तक बैन, रात 8 बजे तक रैलियों और भाषणों पर रोक
Mamata Banerjee पर 24 घंटे तक बैन, रात 8 बजे तक रैलियों और भाषणों पर रोक

मंगलवार रात 8 बजे तक Mamata Banerjee की रैलियों और भाषणों पर रोक लगा दी गई है. Mamata Banerjee के खिलाफ चुनाव आयोग ने बड़ा एक्शन लिया है. दीदी पर चुनाव प्रचार पर चुनाव आयोग ने 24 घंटे तक बैन लगा दिया है. यानी चुनाव आयोग की नोटिस का जवाब नहीं देना दीदी के लिए भारी पड़ गया.

Also read: कोरोना को मात दे कर घर लौटे Akshay Kumar

Mamata Banerjee पर क्यों लगी रोक?

ममता बनर्जी ने मुस्लिमों से TMC को वोट देने की अपील की थी, जिसके बाद इस मामले में कार्रवाई की गई. बैन के खिलाफ ममता बनर्जी ने विरोध जताया है.

Also read: Operation all out: शीर्ष 50 Naxalite कमांडरों की तैयार सूची

Mamata Banerjee धरने पर

मंगलवार को कोलकाता के गांधी मूर्ति पर ममता धरना देंगी. कोलकाता के गांधी मूर्ति स्थल पर वो धरना देंगी. दोपहर 12 बजे ममता बनर्जी धरने पर बैठेंगी, दीदी ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि चुनाव आयोग का फैसला अलोकतांत्रिक है. ममता ने चुनाव आयोग के फैसले को असंवैधानिक भी बताया है.

Also read: यहाँ के लोगो ने खुद से ही लगा लिया lockdown

Mamata Banerjee पर कार्रवाई

ममता बजर्नी पर चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगा. ममता बनर्जी ने 3 अप्रैल को दिए अपने भाषण में मुसलमानों से वोट की अपील की थी. ममता की इस अपील पर प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने भी सवाल खड़े किए थे. इसके बाद चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी के इस भाषण को आचार संहिता को उल्लंघन मानते हुए नोटिस भेजा था, जिसका जवाब ममता बनर्जी को 48 घंटे में देना था. हालांकि उन्होंने जवाब देने से इंकार कर दिया.

Also read: PM Narendra Modi ने कल्याणी रैली में ममता बनर्जी पर साधा निशाना

मुस्लिम वोटरों से एकजुट होने की अपील

ममता बनर्जी ने मुस्लिम वोटरों से एकजुट होने की अपील की थी, तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बंगाल में अपनी रैली के दौरान ममता बनर्जी की इस अपील पर सवाल खड़े किए थे. प्रधानमंत्री ने ये भी कहा था अगर वो ऐसी कोई अपील करते तो उनको चुनाव आयोग का नोटिस मिल जाता.

Also read: Abhishek Bachchan करने वाले वाले थे bollywood quit!

बीजेपी को ध्रुवीकरण का फायदा

दरअसल बंगाल का धार्मिक समीकरण देखें तो हिंदुओं की संख्या 70.54% है. जबकि मुस्लिम 27.01% है और अन्य 2.45% हैं. ऐसे में बीजेपी को ध्रुवीकरण का फायदा होना तय है. ममता की नजर मुस्लिम वोटों के साथ-साथ हिंदू वोटों पर भी है. इसलिए वो अपनी रैलियों में चंडी पाठ के अलावा दूसरे धर्मों की भी बात करती हैं.

Also read: PM Narendra Modi ने कल्याणी रैली में ममता बनर्जी पर साधा निशाना

मुख्यमंत्री का चंडी पाठ

अब तक बंगाल में ऐसा कभी नहीं हुआ था एक मुख्यमंत्री मंच से मंत्रों का जाप करे, लेकिन चुनावी राजनीति की यही खूबी है कि जिस राज्य में आज से 2 साल पहले तक मां दुर्गा के मूर्ति विसर्जन के लिए कोर्ट जाना पड़ता था. उस राज्य की मुख्यमंत्री अब चुनावी मंच से चंडी पाठ करती हैं.

Also read: SHO की mob lynching में मौत, खबर सुन कर माँ की मौत

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें