Shashi Tharoor ने PM Narendra Modi से मांगी माफ़ी, लिखा ‘Sorry’

0
55
Shashi Tharoor ने PM Narendra Modi से मांगी माफ़ी, लिखा 'Sorry'
Shashi Tharoor ने PM Narendra Modi से मांगी माफ़ी, लिखा 'Sorry'

शशि थरूर ने जल्द बाज़ी में Narendra Modi की यात्रा पर एक टिप्‍पणी की थी. कहते हैं ‘जल्‍दी का काम शैतान का’ होता है. कांग्रेस नेता शशि थरूर को यह बात शनिवार को समझ आ गई.

Also read: बॉक्सऑफिस पर Godzilla Vs Kong की धमाकेदार एंट्री

Narendra Modi से जुड़ी एक खबर को शेयर करते हुए लिखा

शशि थरूर ने ट्विटर पर प्रधानमंत्री मोदी से जुड़ी एक खबर को शेयर करते हुए लिखा, “अगर मैं गलत हूं तो इसे स्वीकारने में मुझे बुरा नहीं लगता है. कल जल्दबाजी में हेडलाइन और ट्वीट पढ़कर मैंने ट्वीट किया था, “हर कोई जानता है कि बांग्लादेश को किसने आजाद कराया.” जिसका मतलब था कि नरेंद्र मोदी ने इंदिरा गांधी के योगदान को नहीं बताया.

Also read: करियर में पहली बार अलग ही रोल में नजर आएंगी Sunny Leone

Narendra Modi को ‘सॉरी’ लिखा

अगले दिन थरूर को एक न्‍यूज रिपोर्ट से पता चला कि मोदी ने तो इंदिरा का नाम लिया था. शनिवार सुबह उन्‍होंने अपनी गलती मानते हुए ‘सॉरी’ लिखा और कहा कि ‘जब मैं गलत होता हूं तो स्‍वीकर करने में कोई समस्‍या नहीं होती.”

Also read: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Bangladesh के दो दिवसीय दौरे पर , छात्र हुए हिंसक

Narendra Modi भी थे संघर्ष में शामिल

मोदी ने कहा, ‘बांग्लादेश की आजादी के लिए संघर्ष में शामिल होना मेरे जीवन के भी पहले आंदोलनों में से एक था. मेरी उम्र 20-22 साल रही होगी जब मैंने और मेरे कई साथियों ने बांग्लादेश के लोगों की आजादी के लिए सत्याग्रह किया था.’

Also read: PM Narendra Modi ने की बांग्लादेश के Jeshoreshwari काली मंदिर में पूजा-अर्चना

क्या है पूरा मामला?

कांग्रेस और BJP के बीच शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उस टिप्पणी को लेकर बहस छिड़ गई, जिसमें प्रधानमंत्री ने बांग्लादेश की आजादी के लिए सत्याग्रह करने की बात कही थी. प्रधानमंत्री की टिप्पणी पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री बांग्लादेश को भारतीय फर्जी खबर का स्वाद चखा रहे हैं. हर कोई जानता है कि बांग्लादेश को किसने आजाद कराया.

Also read: 582 अरब डॉलर से ज्यादा हुआ Foreign exchange reserves

थरूर के अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने कहा था कि “दुखद है कि हमारे प्रधानमंत्री इसे स्‍वीकार नहीं करेंगे लेकिन 1971 के ऐतिहासिक घटनाक्रम में इंदिरा गांधी का महत्‍वपूर्ण योगदान था.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें