World Poetry Day: जानें किसने की थी इसकी शुरुआत

0
42
World Poetry Day: जानें किसने की थी इसकी शुरुआत
World Poetry Day: जानें किसने की थी इसकी शुरुआत

World Poetry Day: know who started it

लिखने पढ़ने का शौक किसे नहीं होता. लेकिन अगर बात कविताओं की हो तो ये और भी दिलचस्प हो जाती है. कवि एक ऐसे व्यक्ति होते हैं जो अपनी कविताओं के ज़रिये समाज पर काफी गहरा असर डालते हैं.कवि अपनी कविता के माध्यम से समाज का असली रूप लाने का प्रयास करते रहते हैं.

 

हर साल 21 मार्च को पूरी दुनिया में विश्व कविता दिवस यानी World Poetry Day मनाया जाता है. इस दिन को मनाने का कारण दुनिया के कवि और उनकी कविताओं का समर्थन करना होता है. साथ ही कविताओं को जन-जन तक पहुँचाना भी होता है.

Also Read:

बॉलीवुड अभिनेता Sonu Sood को SpiceJet के स्पेशल विमान ने किया सलाम

Also Read:

परमबीर सिंह का 100 करोड़ वाला पात्र, Maharashtra सरकार में हलचल

इसकी शुरुआत किसने की –

इसकी शुरुआत UNESCO ने वर्ष 1999 में अपने 30वें सामान्य सम्मलेन में पेरिस में की थी. इसका उद्देश्य कवि एवं कविताओं की सृजनात्मक महिमा का सम्मान करना ,भाषाओँ की विविधता का सम्मान करना एवं लुप्त होती भाषाओँ की बढ़ावा देना है. विश्व कविता दिवस हर साल पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. इस दिन स्कूलों एवं कॉलेजों में काव्य लेखन जैसी कवितायेँ आयोजित की जाती है.

आइये जानते हैं भारत के कुछ लोकप्रिय कवियों के बारे में जिन्होंने हिंदी साहित्य में बहुत बड़ा मुकाम हासिल किया है.

माखनलाल चतुर्वेदी

माखनलाल चतुर्वेदी एक भारतीय कवि , लेखक, निबंधकार, नाटककार और जर्नलिस्ट थे जो विशेष रूप से आज़ादी के लिये होने वाले भारतीय राष्ट्रिय आंदोलन में अपने सहभाग के लिये जाने जाते है. उनकी सभी रचनाये सरल भाषा और भावनापूर्ण हैं। माखनलाल चतुर्वेदी जी की कविताओं में देशप्रेम के साथ साथ प्रकृति और प्रेम का भी वर्णन होता हैं। इनकी जो सबसे चर्चित कविता रही है और आज भी है वो है-

पुष्प की अभिलाषा

चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँ,
चाह नहीं प्रेमी-माला में बिंध प्यारी को ललचाऊँ,
चाह नहीं, सम्राटों के शव पर, हे हरि, डाला जाऊँ
चाह नहीं, देवों के सिर पर, चढ़ूँ भाग्य पर इठलाऊँ।

मुझे तोड़ लेना वनमाली।
उस पथ पर देना तुम फेंक,
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने
जिस पथ जावें वीर अनेक।।

Also Read:

Narendra Modi: बंगाल में इस बार भाजपा सरकार

हरिवंश राय बच्चन

हरिवंश राय बच्चन हिन्दी भाषा के एक कवि होने के साथ साथ अच्छे लेखक थे। हिंदी कवी सम्मलेन के विख्यात कवी हरिवंश राय श्रीवास्तव उर्फ़ बच्चन का जन्म 27 नवम्बर 1907 को इलाहाबाद से सटे प्रतापगढ़ जिले के एक छोटे से गाँव बाबूपट्टी में हुआ था। बच्चन जी की गिनती हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवियों में होती है।

बच्चन जी की सबसे लोकप्रिय कवितायेँ हैं –

तेरा हार (1932)
मधुशाला (1935)
मधुबाला (1936)
मधुकलश (1937)
निशा निमन्त्रण (1938)
एकांत-संगीत (1939)
आकुल अंतर (1943)
सतरंगिनी (1945)

वहीँ भारत के अन्य प्रमुख कविं जिनकी रचनाओं ने समाज को नई दिशा दी है वो हैं-

कबीर
रामधारी सिंह ‘दिनकर’
मैथिलीशरण गुप्त
सुमित्रानंदन पंत
सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’
रहीम
तुलसीदास

Also Read:

Yogi Government के चार साल: जानें कानून व्यवस्था में कितना सुधार हुआ

Also Read:

Modi Government: भारत में 4-दिन का कार्य सप्ताह?

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें