Yogi Adityanath: उत्तरप्रदेश के लिए योगी सरकार रोले मॉडल

0
146
Yogi Adityanath: उत्तरप्रदेश के लिए योगी सरकार रोले मॉडल
Yogi Adityanath: उत्तरप्रदेश के लिए योगी सरकार रोले मॉडल

चार सालों के कामकाज

Yogi Adityanath सरकार के चार साल पूरे हो गए हैं. सरकार के बीते चार सालों के कामकाज पर हुए तमाम सर्वे बता रहे हैं कि योगी सरकार पिछली सरकारों से बेहतर रही है. उत्तरप्रदेश के लिए योगी सरकार रोले मॉडल बना गयीं है. जनता ने न केवल योगी को बेहतर सीएम बताया बल्कि उन्‍हें पीएम मोदी के बाद प्रधानमंत्री बनने के काबिल कहा है.

Yogi Adityanath ने जीत हासिल की

सर्वे की मानें तो अगर इसी समय यूपी में चुनाव हो जाएं तो फिर से बीजेपी की सरकार बनेगी. यूपी में विधानसभा उपचुनाव से लेकर एमएलसी चुनाव सभी में योगी के नेतृत्व में बीजेपी ने जीत हासिल की है.मायावती, अखिलेश यादव की मजबूत पार्टियां और प्रियंका के पदार्पण के बावजूद विपक्ष यूपी में काफी हद तक कमजोर नजर आता है.

Also read: AQI रिपोर्ट : 9 शहर सबसे भारत के प्रदूषित शहर

Yogi Adityanath की उपलब्धि

लोगों ने योगी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि नौकरियां देना माना है. सवाल पर 28 फीसदी लोगों ने नई नौकरी, 12 फीसदी ने कोरोना महामारी के नियंत्रण, 16 फीसदी ने अपराध नियंत्रण और 16 फीसदी लोगों ने राम मंदिर को योगी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि बताया.

अभी चुनाव हुए तो बीजेपी को 294 तक सीट

अभी विधानसभा चुनाव होते हैं तो बीजेपी को 41 फीसदी, समाजवादी पार्टी को 24 फीसदी और बीएसपी को 21 फीसदी वोट मिल सकते हैं. प्रियंका गांधी की लाख कोशिश के बावजूद कांग्रेस को इस बार भी बड़ा झटका लग सकता है. सर्वे की मानें तो कांग्रेस के खाते में सिर्फ 6 फीसदी वोट शेयर ही जाएगा जबकि अन्य दलों को 8 फीसदी वोट मिल सकते हैं. सीटों की बात करें तो बीजेपी+ को 284-294, समाजवादी पार्टी को 54-64, बीएसपी को 33-43, कांग्रेस को 1-7 और अन्य को 10-16 सीटें मिल सकती हैं. सर्वे में यूपी की सभी 403 विधानसभा सीटों पर 15,747 लोगों से बात की गई.

Also read: Lucknow: LPG से भरा टैंकर पलटा , बड़ा हादसा टला

Yogi Adityanath पीएम बनने के काबिल

वहीं, उत्तर प्रदेश के लगभग आधे निवासियों का मानना है कि नरेंद्र मोदी के बाद योगी आदित्यनाथ ही प्रधानमंत्री बनने के काबिल हैं. आईएएनएस सी-वोटर ट्रैकर के मुताबिक, सर्वेक्षण में 49.5 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि नरेंद्र मोदी के बाद योगी प्रधानमंत्री बनने में सक्षम हैं.

दिलचस्प बात यह है कि जहां 63.5 प्रतिशत बीजेपी समर्थकों ने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर योगी को अपना समर्थन दिया, वहीं 42.9 फीसदी बीएसपी समर्थकों, 21.7 फीसदी एसपी समर्थकों और 24.4 फीसदी कांग्रेसियों ने प्रधानमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ का समर्थन किया. योगी के लिए लव जिहाद कैम्पेन, नौकरशाही पर नजर रखना और अपराध व भ्रष्टाचार से लड़ने जैसी बातें उनके पक्ष में रही हैं.

Also read:
Ritika Phogat : गीता और बबिता फोगाट कि बेहेन ने की आत्महत्या

Yogi Adityanath की लोकप्रियता

लोकप्रियता के मामले में वह उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव और मायावती से आगे हैं. रोजगार के नए अवसर दिलाने को योगी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि के रूप में देखा जाता है और इसके बाद अपराध पर नकेल कसने से संबंधित मुद्दा दूसरे नंबर पर है.

चुनावी वादों को पूरा किए जाने के सवाल के पक्ष में नहीं दिखे

बीजेपी सरकार के अपने चुनावी वादों को पूरा किए जाने के सवाल के पक्ष में नहीं दिखे. लोगों से जब पूछा गया कि क्या आपको लगता है कि मुख्यमंत्री योगी ने चुनाव से पहले अपने किए वादे पूरे किए हैं? 45.7 प्रतिशत ने इसका जवाब ‘ना’ में दिया. लेकिन रोजगार के नए अवसर दिलाने, बुनियादी ढांचे के निर्माण में और अपराध व भ्रष्टाचार को रोकने में योगी आदित्यनाथ, अखिलेश और मायावती से कहीं आगे हैं और इसी की तर्ज पर उन्हें इन तीनों में सर्वश्रेष्ठ सीएम के रूप में देखा जाता है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें